बुधवार, 1 नवंबर 2017

चिता की राख !

                                                     
                                                    
          रात में अचानक जोर जोर से आवाज आने से उनकी नींद खुल गयी।  अंदर से आवाजें आ रहीं थी।  माँ के जेवरों के बंटवारे को लेकर बहस हो रही थी।  बहुओं को ननद से शिकायत थी क्योंकि पापाजी ने मम्मीजी के भारी भारी गहने उन्हें पहले ही दे दिए थे और वह इनमें से भी चाह रही थी।  इसी बात पर सब आक्रोशित थे।  
                       निशांत बाबू के कानों में शब्द शीशे की तरह उतर रहे थे।  कल तक भाई साहब तो थे लेकिन इनमें से कोई न था।  रात में फ़ोन करके उन्होंने छोटे भाई को बुला लिया लेकिन बेटे को नहीं।
"आज रात मेरे पास रुको कुछ बातें करनी है।"
"जी भाई साहब।"
                 उनसे चुपचाप उन्होंने बड़े बेटे को फ़ोन किया - " पापा के पास आ जाओ।"
"चाचाजी अभी ही टूर से लौटा हूँ , सुबह आता हूँ , आप तो हैं ही। "
                  निशांत कुछ कहने की स्थिति में नहीं थे।  लौटकर आकर भाई साहब के पास बैठ गए।  वह पता नहीं कितनी पुरानी बातें याद करते रहे और फिर बोले जाओ छोटे सो जाओ , मुझे भी नींद  आ रही है। कुछ ही घंटे तो वे अकेले रहे सोते समय और जब वह सुबह उठ कर आये तो भाई साहब सोते ही रह गए।  बहुत जगाया नहीं जागे।  तब फिर बड़े बेटे को फ़ोन किया और बता दिया कि अब तो आ जाओ।  उसने बाकी सब बहन और भाइयों को खबर दी।
                   शाम तक अंतिम संस्कार के बाद जब घर जाने को हुए तो बच्चों ने कहा चाचा जी हवन तक आप भी घर में रहें।  वह भी मन नहीं कर सके , आखिर भाई साहब ने ही तो बुलाया था तो अभी हवन तक उनकी आत्मा यही बसी रहेगी।  उनके सारे बच्चे उच्च पदों पर थे और दामाद भी, लेकिन भाभी के न रहने पर वह घर छोड़ कर कहीं बसना नहीं चाहते थे और उनके बच्चे इस मकान  में नहीं आना चाहते थे। टिफिन लगा लिया था खाने के लिए , बाकी चाय वगैरह खुद कर लेते थे।  जल्दी किसी के पास न गए।भाभी के न रहने पर वे अकेले हो गए थे तो कभी कभी भाई को बुला लेते थे।    उस  दिन भी उन्होंने भाई को फ़ोन किया कि मुझे अपनी तबियत ठीक नहीं लगती है , क्या तुम आ सकते हो ? शायद उनको अहसास हो गया था या कुछ और लगा था।
                नीद  आ नहीं रही थी , करवटें बदलते रहे और जब शोर सहन नहीं हुआ तो उनसे रहा नहीं गया।    वे आखिर उस कमरे में आ ही गये और गुस्से से बोले  - " अरे मूर्खो तुम लोग करोड़ों के मालिक हो फिर भी इस तरह लड़ रहे हो। उनकी चिता की राख  तो ठंडी हो जाने देते। " और वह बाहर निकल गए। 
                   

मंगलवार, 3 अक्तूबर 2017

झूठ की लंका !

                                    गाँव में समाधान बैठक होने वाली थी और उसमें मंत्रीजी का आना तय था।  सरपंच गाँव में माहौल बनाने के लिए लोगों को पहले से समझाने में लगा था कि मंत्री जी के सामने कोई भी आदमी किसी बात की शिकायत नहीं करेगा बल्कि मैं जो बता रहा हूँ वैसे ही उत्तर हर आदमी को देना होगा।
-- यहाँ सब सुविधाएँ मिल रहीं है
--गाँव में बिजली आती है।
-- स्कूल में पढाई बराबर होती है।
-- मिड डे मील बढ़िया मिलता है
-- राशन का सामान मिलता है।
                           घर जाके पुरुष वर्ग अपनी पत्नियों को ये बातें समझा रहे थे और उनके बच्चे सुन रहे थे।  छुटकी बोली - बापू तुम झूठ बुलिहो और हमसे कहत हो कि झूठ बोलव पाप होत है। '
' चुप कर ये बड़ों की बातें तुम्हरे समझ न अइहें। ' बापू ने धमका दिया।
                   छुटकी चुपचाप कोने जाकर बैठ गई और बापू की कही बातें दुहराने लगी।
-- सुविधाएं  - नाहीं
-- बिजली -  कभउँ कभउँ
--पढाई  - बहनजी बोर्ड पर लिख देती है और फिर दस बार कॉपी में उतारो और वे सूटर बुनें बैठ जातीं.
--मिड डे मील - कच्चा पक्का , पानी की दाल , कंकड़ के चावल
-- ये राशन का होत  है नाहीं पता।
                         एक फ़टफ़टिया वाले बाबू आत है और हम सबन के नाम लिख ले जात  है बस।
                        मंत्री जी आये और सारे गाँव वाले पंचायत घर में इकट्ठे हो गए।  छुटकी थोड़ी देर बाद खिड़की से खुद कर सबके पीछे आकर खड़ी हो गयी।  मंत्री जी ने फाइलें देखीं और दो चार लोगों से पूछा तो सबकी एक ही इबारत।  उनकी नजर छुटकी पर पड़ी तो इशारे से उसको बुलाया।  वह मटकती हुई पहुँच गयी।  मंत्री जी ने वही सवाल छुटकी से पूछे और छुटकी जो दुहरा रही थी वही सब बोल दी।
                   सरपंच की झूठ की लंका छुटकी ने एक मिनट में ढहा दी।

शनिवार, 23 सितंबर 2017

दुस्साहस !



                 नीति स्कूल से निकल कर साइकिल से घर की तरफ चली जा रही थी।  ऑफिसर क्वार्टर होने के कारन कुछ रास्ता सुनसान भी पड़ता था।  वह उसी रास्ते पर चली जा रही थी कि  उसके बगल में एक गाड़ी रुकती है और उसको वह लोग गाड़ी में खींच लेते हैं और फिर उसके चिल्लाने से पूर्व ही उसको बेहोश करने के लिए कुछ सुँघा देते हैं।
                 नीति जब होश में आयी तो उसने अपने को एक अँधेरे कमरे में पाया , जिसमें एक पुराना  सोफा पड़ा था और एक तरफ एक बैड कहे जाने वाला दीवान। उससे नहीं मालूम था कि कितना बजा  था और वह कहाँ ला कर बंद की गयी थी? उसे भूख तेजी से लोग रही थी लेकिन खाने को कुछ भी न था।  फिर उसने देखा कि कोई दरवाजा खोल रहा है , अँधेरे में रौशनी तेजी से आनी  शुरू हुई तो उसकी आँखें चुंधियाने लगी और उसने आँखों को रौशनी से बचाने के लिए अपनी  हथेली सामने फैला ली। उसे आने वाले की शक्ल नहीं दिख रही थी।
"कौन ?" आने वाले ने पूछा।
"मैं नीति। ": उसने कांपती आवाज में कहा।
          आने वाला समझ गया कि ये कारस्तानी सेठ जी के बेटे की होगी।  वह अपने आवारा दोस्तों के साथ मिल कर कुछ भी कर सकता है।  वह अब धर्म संकट में फँस गया कि कैसे इसको बचाये ? एक लड़की की अस्मत बचना और एक क्षण उसे अपनी बेटी याद आ गयी , जिसे किसी ने इज्जत लूटने के बाद मार कर फ़ेंक दिया था। वह काँप गया। उसने तुरंत सोचा और नीति के पास गया। 
        :"बेटा मैं तुम्हें इस खिड़की तक पहुंचा दूंगा और तुम बाहर  कूद कर दायीं और भागती जाना तो बाउंड्री के किनारे मेरी कोठरी बनी है उसी में छुप जाना।  क्योंकि अगर सामने से भगाऊंगा तो मेरे नाम होगा और उन लड़कों की ऊपर महफ़िल जमी है।  वह लोग एक आध घंटे में यहाँ आएंगे।  तुम छिपी रहना और मैं खिड़की खुली छोड़ दूंगा जिससे वह समझेंगे की तुम खुद भाग गयी हो। "
"फिर काका आप को तो कुछ नहीं करेंगे ?"
"मेरी चिंता छोडो बेटी , ये गुजरी जिंदगी कितने पाप होते हुए देख चुकी है।अपनी बेटी तो न बचा सका। दूसरी बेटी की जिंदगी अब अपने हाथ से  बचा लूँ तो अहोभाग्य । "